Lic Policy Claim Process – लेना चाहते हैं एलआईसी पॉलिसी का क्लेम, इस तरह ले आसानी से क्लेम का पैसा !

जैसा कि आज हम आपको जानकारी देने जा रहे हैं, कि एक्‍साइड लाइफ इंश्‍योरेंस के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर अश्विन बी. का यह मानना है, कि लाइफ़ इंश्योरेंस को पूरी तरह जानने की नजर से, ये सभी ट्रूथ हैं ।परंतु, सही की वास्‍तविक जाच तो तब होती है जब किसी भी इंश्योरेंस कंपनी और उसके कस्टमरो के लिए क्लेम की बात आती है ।

आपके जानकारी के लिए बता दें कि इंश्योरेंस करने वाली कंपनी पुर्ण गर्व के साथ उच्‍च क्लेम निपटारे का क्लेम करती हैं । उनका उद्देश्य हमेशा अपने कस्टमरो के लिए क्लेम विधि को सरल एवं सुविधाजनक ने निर्माण करना होता है । इसके अलावा, यह आमतौर पर धारणा है कि क्लेम का निपटारा कठिन कार्य होता है । वैसे तो,  इंश्योरेंस धारकों के माध्यम से पूरे वास्‍तविक क्लेम का जल्‍दी-से-जल्‍दी निपटा जा सकता है । परंतु कुछ ऐसे तर्कीब है जिन्हे यूज करके कस्टमर, क्लेम निपटारा से सम्बन्धित चर्चा से बचने की कोशिश कर सकते हैं ।

यहाँ भी पढ़े ;-  गावं के बेरोजगार युवा स्टार्ट करें यह बिजनेस, होगी अच्छी खासी कमाई ! Profitable Business !

Lic Policy Claim Process

LIC Policy Claim Process, LIC Policy News, LIC Policy Update, LIC Claim Process Online
Lic Policy Claim Process

आपके जानकारी के बता दे कि आप सबसे पहले जो इंसुरेंस खरीद रहे हैं उसके बारे मे पुरी जानकारी को समझ ले । उससे प्राप्त होने वाले मुनाफ़ा एवं साधनो को जानने की जरूरत होती है । प्रीमियम रकन एवं पेमेन्ट अवधि की पूरी डिटेल रखना आवश्यक है । यह बहुत जरूरी है कि आप अपनी वर्तमान आयु और वित्‍तीय रिस्पांसिबिलिटी के आधार पर सही insurance रकम और अवधि का चयन करना पड़ता है ।

यहाँ भी पढ़े ;-  अगर आप भी इंटरनेट बैंकिंग का सुविधा लेना चाहते हैं तो, करना होगा यह काम !

आप तय करें कि insurance रकम, आपके इनकम-आयु और मानक रहन-सहन के अनुकुल हो । आपके जानकारी के लिए बता दें कि इसके अलावा, रिन्‍यूअल प्रीमियम का वक्त से पेमेन्ट करें जिससे की पॉलिसी हमेशा प्रभावी ही रहे, ऐसा इसलिए ताकि पॉलिसी रिन्‍यू नहीं होने या इसकी समय खत्म हो जाने की स्थिति में, क्लेम पर बात वात नहीं किया जायेगा ।

इंश्योरेंस सम्बन्ध ‘उबेरिमा फिडेई’ के उसूलो पर डिपेंडेंट होता है । जिसका अर्थ यह है कि Insurance अवसर में पूरे भौतिक तथ्यो का पूरी जानकारी देना होता है । इंडस्‍ट्री पैमाने पर, ज्यादातर इंश्योरेंस क्लेम इसलिए स्वीकार नहीं किया जाता हैं, क्‍योंकि जुड़े हुए insurance ऑपर्च्युनिटी में पहले से उपलब्ध बीमारियों के बारे में जानकारी नहीं दिया होता है ।

या तो उनमें तथ्‍य पूरी तरह से गलत होती हैं । इसलिए, आप जिस प्रोडक्ट को खरीदने का सोच रहे हैं उसका चयन करने के बाद,  insurance अवसर में खुद के बारे में सही-सही और पूरी  डिटेल दें । इनकम और पेशा, शिक्षा, स्‍वास्‍थ्‍य (पहले से उपलब्ध बीमारी सहित), धूम्रपान, फैमिली हिस्‍ट्री और मद्यपान ये सब चीज के बारे में सच और सही डिटेल दें । आपके जानकारी के लिए बता दें कि अगर सभी भौतिक तथ्‍यों के रिलेटेड ईमानदारी से सही सही डिटेल दी जाती है, तो क्लेम स्वीकार नही करने की संभावना नही होती है।

ज्यादातर कस्टमर ऑनलाइन insurance खरीदने के बिना वो किसी इंश्योरेंस एजेंट (या बैंक के रिलेशनशिप ऑफ़िस मैनेजर से  इंश्योरेंस खरीदना सही मानते हैं । वैसे तो, एजेंट इंश्योरेंस खरीदने और दस्तावेज विधि पुर्ण करने में आपकी मदद कर सकते हैं, परंतु आपको समझाया जाता है कि आप बीमा प्रस्‍ताव स्वेम ध्यान पूर्वक भरें और/या चेक कर लें कि उसमें दी गयी सभी डिटेल पूरी  और सही है । मैने आपको अपने लेख के माध्यम से अपने आर्टिकल में इसकी पूरी जानकारी दें दी है ।

यहाँ भी पढ़े :- अगर आपका भी खाता पोस्ट ऑफिस में हैं तो रखना होगा इतने पैसे, जानिए क्या है नियम ! Post Office Saving Account

हमारी कम्युनिटी ज्वाइन करे –

Whatapp ग्रुप ज्वाइन करेJoin
Youtube चैनल सब्सक्राइब करेSubscribe
Instagram पर फॉलो करेFollow
Telegram ग्रुप ज्वाइन करेJoin

careerbhaskar

करियर भास्कर हिंदी ब्लॉग/वेबसाइट है। इस वेबसाइट में आपको Useful Info, Jobs, Yojna, Earn Money, और Apps और Portal की Update मिलती है ! Note :- careerbhaskar.com का किसी भी दूसरी संस्था या वेबसाइट से कोई सम्बन्ध नहीं है !

Leave a Reply

Your email address will not be published.