[जाने?] हामिद की दादी के अठन्नी बचाने की तुलना किससे की गई है | Hamid Ki Dadi Ke Atthani Bachane Ki Tulna Kisse Ki Gayi Hai

Hamid Ki Dadi Ke Atthani Bachane Ki Tulna Kisse Ki Gayi Hai

हामिद की दादी के अठन्नी बचाने की तुलना किससे की गई है?

हामिद की दादी के अठन्नी बचाने की तुलना ईमान बचाने से की गई है।

जानिए इसके पीछे की वजह

असल में हामिद की दादी के अठन्नी बचाने की तुलना ईमान बचाने से की गई है, दरअसल इस वाक्ये के पीछे एक कहानी है , क्योंकि अमीना ( जो हामिद की दादी है ) वह बेहद गरीब थी और ईद का त्यौहार नजदीक आने ही वाला थ, अमीना को किसी के कपड़े सिलने पर आठ आने मिले थे और इस अठन्नी को वह ईद के त्योहार के लिये ईमान की तरह बचाती आई थी, ईद के त्यौहार पर वह सेवईया आदि बनाने के लिए सामान भी चाहिये होता था।

हामिद को मेले में घूमने के लिए पैसे भी देने थे। यह एक अठन्नी उसने इसीलिए संभाल कर रखी थी, बेहद गरीबी के कारण उसके पास पर्याप्त पैसे नहीं हो पाते थे। हामिद के लिये वह कुछ दे तो पाती नही थी, तो दूध तो चाहिए ही था और दूध का बकाया ज्यादा चढ़ने पर ग्वालन उसके सर पर आकर खड़ी हो गई तो मजबूरी में उसे उस अठन्नी को खर्च करना पड़ा, जिसे वो ईमान की तरह बचाती चली आई थी।

यह प्रश्न भी देखे –

Sanjay Pathekar

हेलो फ्रेंड्स, मेरा नाम संजय पाठेकर है। और पेशे से मै एक ब्लॉगर,यूट्यूबर हूँ। मै इस ब्लॉग पर पिछले 3 साल से Yojna, Jobs, Earn Money and Useful Info सम्बंधित जानकारी दे रहा हु। इस ब्लॉग के माध्यम से आपको ऐसी उपयोगी जानकरी देना है, जो आपके व्यावहारिक जीवन में काम आ सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *